logo

बी एस एन एल एम्पलाईज यूनियन
मध्यप्रदेश परिमंडल



परिमंडल यूनियन द्वारा किए गए आंदोलन की खबर " लोकजतन " में...

बीएसएनएल ईयू द्वारा 27 मई 2017 को विभिन्न मांगों को लेकर परिमंडल कार्यालय के समक्ष विशाल धरना दिया गया था। हमारे आंदोलन की विस्तृत खबर  लोकजतन अखबार में दी गई है।

परिमंडल यूनियन लोकजतन की आभारी है।

जिला सचिवों से अनुरोध है कि  " लोकजतन " अखबार की प्रतियां नियमित रूप से मंगवा कर सदस्यों में वितरित करें। आप नाममात्र शुल्क दे कर लोकजतन के वार्षिक सदस्य भी बन सकते हैं । प्रत्येक जिला सचिव इस अखबार की शुरुआत करने के लिए के लिए कम से कम 5 प्रतियां मंगवाएं। इस पाक्षिक में कर्मचारी वर्ग एवं अपने अधिकारों के लिए संघर्षरत संगठनों व व्यक्तियों से जुड़ी खबरों को विशेष रूप से समायोजित किया जाता है।

डाऊनलोड कीजिए...

करंट लगने से WTR के JTO साथी का निधन

WTR भोपाल में JTO के पद पर कार्यरत हमारे सहयोगी श्री विजय भेंडे जी का करंट लगने से असामयिक निधन हो गया। उन्हें कल रात्रि में घर पर गीजर से करंट लगने की सूचना प्राप्त हुई है। घटना अत्यंत दुःखद है। बीएसएनएल एम्प्लाइज यूनियन, मध्यप्रदेश परिमंडल की विनम्र श्रद्धान्जलि। 

ट्रेड यूनियन एक्टिविटीज पर प्रतिबंध आदेश निरस्त करने की मांग को लेकर महासचिव, बीएसएनएल ईयू का सीएमडी को पत्र...

विगत दिनों कॉर्पोरेट ऑफिस द्वारा हमारे संविधान सम्मत ट्रेड यूनियन अधिकारों पर अंकुश लगाने हेतु लगातार हमले किए जा रहे हैं। कॉर्पोरेट ऑफिस द्वारा धरना, भूख हड़ताल आदि में शामिल होने वाले कर्मचारियों अधिकारियों की वेतन कटौती हेतु आदेश जारी किए गए हैं। बार बार माननीय पटियाला हाउस जिला कोर्ट के आदेश का हवाला दे कर ट्रेड यूनियन गतिविधियों पर बंदिश लगाने की कोशीश की जा रही है। यूनियन के अधिकारों पर प्रहार किए जा रहे हैं।  जबकि वस्तुस्थिति यह है कि माननीय कोर्ट के निर्देश एक आंदोलन विशेष के लिए थे और प्रबंधन अपने तरीके से अपने हित में उक्त आदेश को तोड़ मरोड़ कर प्रस्तुत कर रहा है। एक तरह से कॉर्पोरेट ऑफिस विगत कुछ समय से यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स के साथ लगभग शत्रुतापूर्ण रवैया अपनाए हुए है। जबकि यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स लगातार प्रबंधन के साथ सहयोग करते हुए बीएसएनएल के आर्थिक विकास एवं रिवाइवल के लिए निरंतर रूप से सकारात्मक दिशा में अपनी भूमिका का निर्वहन कर रहे हैं। बीएसएनएल में कार्यसंस्कृति विकसित करने में यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स की महती भूमिका है। कस्टमर डिलाइट ईयर एवं सर्विस विथ स्माइल जैसे अहम कार्यक्रमों के माध्यम से कर्मचारियों अधिकारियों को प्रेरित कर कंपनी के रिवाइवल हेतु यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स ने सफल प्रयास किए हैं।  

बीएसएनएल उन चुनिंदा कंपनियों में से एक है जहां विगत 4-5 वर्षों से प्रबंधन एवं यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स के मध्य प्रशंसनीय सौहार्दता स्थापित है। इस सौहार्दता से कंपनी लाभान्वित भी हुई है। वस्तुतः विगत वर्षों में जितने भी संघर्ष, आंदोलन यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स द्वारा किए गए हैं उनमें से अधिकांश बीएसएनएल के आर्थिक उन्नयन , रिवाइवल आदि के लिए हुए हैं। 

उपर्युक्त तथ्यों का समावेश करते हुए बीएसएनएल ईयू के महासचिव कॉम पी अभिमन्यु ने सीएमडी से हस्तक्षेप की मांग करते हुए सौहार्दता स्थापित करने हेतु पत्र लिखा है।

पत्र में स्पष्ट किया गया है कि यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स की बीएसएनएल में औद्योगिक शान्ति को आहत करने की मंशा कदापि नही है। हम बीएसएनएल के उन्ननयन के लिए न केवल प्रतिबद्ध हैं बल्कि इस दिशा में सकारात्मक पहल एवं कोशिशें जारी भी रखना चाहते हैं । किन्तु प्रबंधन द्वारा यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स के न्यायसम्मत अधिकारों पर प्रहार करने की लगातार प्रक्रिया एवं एक के बाद एक हमलों के चलते यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स द्वारा इस सौहार्दता को और ज्यादा समय तक बनाए रखना संभव नही होगा। अतः माननीय सीएमडी को शीघ्र ही पूर्ववत सौहार्दता स्थापित करने हेतु शीघ्र ठोस कदम उठाना चाहिए।

डाऊनलोड कीजिए

बीएसएनएल बोर्ड के पास लंबित एचआर मुद्दों का शीघ्र निराकरण किया जाए: बीएसएनल ईयू की मांग

निम्न 3 मुद्दों का त्वरित निराकरण करने की मांग करते हुए बीएसएनल ईयू के महासचिव कॉम पी अभिमन्यु ने सीएमडी को पत्र लिखा है।

  • नॉन एग्जिक्यूटिव्ज को E 1 पे स्केल में प्रमोशन दिया जाए
  • सीनियर TOA, RM आदि को वेतन में हो रहे नुकसान की पूर्ति के लिए एक अतिरिक्त इन्क्रीमेंट दिया जाए
  • केज्युअल लेबर्स को ग्रेच्यूईटी का लाभ मिले

उपर्युक्त मुद्दों पर मैनेजमेंट कमेटी अपनी सहमति दे चुकी है किंतु ये मुद्दे बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स के पास लंबे समय से लंबित है। शीघ्र निराकरण हेतु हमारे महासचिव ने मांग की है।

डाऊनलोड कीजिए

नए लैंडलाइन ब्रॉडबैंड कनेक्शन हेतु इंसेंटिव...

लैंडलाइन व ब्रॉडबैंड कनेक्शन में वृद्धि के लिए कर्मचारियों को इंसेंटिव देने हेतु नए आदेश जारी हुए हैं।

डाऊनलोड कीजिए

वेज रिवीजन और अन्य मांगों के लिए 20 जून 2017 को मध्यप्रदेश परिमंडल में सफल धरना

2 जून 2017 को नई दिल्ली में सम्पन्न सभी यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स की मीटिंग में वेज रिवीजन और यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स के ट्रेड यूनियन अधिकारों की रक्षा के लिए ऐतिहासिक आंदोलन करने हेतु लिए गए निर्णय के प्रथम चरण में 20 जून 2017 को परिमंडल में सफल धरना हुआ। रोषपूर्ण प्रदर्शन भी हुए।

आंदोलन के द्वितीय चरण में निम्न डिमांड्स को ले कर 13 जुलाई 2017 को भूख हड़ताल होगी और 27 जुलाई 2017 को पूर्ण हड़ताल।

  • 1.1.2017 से देय वेज रिवीजन और पेन्शन रिवीजन का निराकरण करो
  • डायरेक्ट रिक्रूट कर्मियों का सुपरएन्युअशन बेनिफिट का प्रकरण सेटल करो
  • बीएसएनएल में ट्रेड यूनियन एक्टिविटी पर पाबंदी के निर्देश का कॉर्पोरेट ऑफिस का दिनांक 8.5.2017 का लेटर बगैर शर्त वापस लिया जाए।

सभी सहभागी यूनियन व एसोसिएशन के जिला सचिवों व उनकी टीम को सफल धरना प्रदर्शन के लिए धन्यवाद...

चित्रमय झलकियां डाऊनलोड कीजिए...

Damoh      Ratlam      Rajgarh Beora      Dhar      Raisen      Chatarpur      Narsinghpur      Panna      Shahdol      Guna      Sagar      Balaghat      Indore      Khandwa      Bhopal GMTD      Ujjain      Jabalpur      Hoshangabad      Bhopal CO      Satna      Chhatarpur      Dhar      Raisen      Rajgarh Beora      Damoh      Ratlam      Gwalior      Dewas      Morena      Rewa      Shivpuri      Mandla      Mandsore     

वेज रिवीजन और अन्य मांगों के लिए अभूतपूर्व आंदोलन होगा

प्रथम चरण में 20 जून 2017 को राष्ट्रव्यापी धरना

2 जून 2017 को नई दिल्ली में सम्पन्न सभी यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स की मीटिंग में वेज रिवीजन और यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स के ट्रेड यूनियन अधिकारों की रक्षा के लिए ऐतिहासिक आंदोलन करने का निर्णय लिया गया। सर्वानुमति से तय आंदोलन की रूपरेखा एवं डिमांड्स निम्नानुसार है।

आंदोलन की रूपरेखा...

20 जून 2017 राष्ट्रव्यापी धरना
13 जुलाई 2017  भूख हड़ताल
27 जुलाई 2017  सम्पूर्ण हड़ताल

 

डिमांड्स...

  • 1.1.2017 से देय वेज रिवीजन और पेन्शन रिवीजन का निराकरण करो
  • डायरेक्ट रिक्रूट कर्मियों का सुपरएन्युअशन बेनिफिट का प्रकरण सेटल करो
  • बीएसएनएल में ट्रेड यूनियन एक्टिविटी पर पाबंदी के निर्देश का कॉर्पोरेट ऑफिस का दिनांक 8.5.2017 का लेटर बगैर शर्त वापस लो

जिला सचिवों से अनुरोध है कि धरना प्रदर्शन सफलता पूर्वक आयोजित करें...

प्रबंधन को प्रेषित नोटिस की प्रति ऐसी साइट पर उपलब्ध है। नोटिस पर आंदोलन में शामिल यूनियन्स व एसोसिएशन्स के लीडर्स के हस्ताक्षर हैं। आंदोलन की सफलता हेतु सभी स्थानीय लीडर्स से संपर्क करें।

जिला सचिव ध्यान देवें... प्रेसिडेंशियल ऑर्डर्स हेतु शेष TSM के नाम भेजिए...

कॉर्पोरेट ऑफिस द्वारा पात्र  कैज्युअल लेबर्स ( ऐसे TSM जिन्हें 30.9.2000 या इसके पूर्व TSM का दर्जा मिल चुका था किंतु रेग्युलराइज 1.10.2000 या उसके पश्चात किया गया था ) के प्रेसिडेंशियल ऑर्डर्स जारी करने हेतु 15.6.2017 तक नाम मांगे गए हैं। इसके पश्चात डॉट द्वारा प्रेसिडेंशियल ऑर्डर्स जारी नहीं किए जाएंगे।

जिला सचिव इस प्रकरण में व्यक्तिगत प्रयास कर सुनिश्चित करें कि उनके एसएसए से सभी नाम परिमंडल कार्यालय को निश्चित समयावधि में प्रेषित कर दिए गए हैं।

कॉर्पोरेट ऑफिस और डॉट का पत्र डाऊनलोड करें।

डाऊनलोड कीजिए 1  2

CEC - सेंट्रल एग्जीक्यूटिव कमेटी की मीटिंग तिरुअनंतपुरम में

CEC - सेंट्रल एग्जीक्यूटिव कमेटी की मीटिंग तिरुअनंतपुरम में 9.6.2017 से 11.6.2017 तक होने जा रही है। CEC में शिरकत करने हेतु परिमंडल सचिव कॉम प्रकाश शर्मा व सीएचक्यू उपाध्यक्ष कॉम जगदीश सिंह तिरुअनंतपुरम पहुंच चुके हैं।

कॉम मोहनन, परिमंडल सचिव, बीएसएनएल ईयू, केरल परिमंडल के नेतृत्व में CEC की सफलता हेतु केरल के कॉमरेड्स मुस्तेदी से जुटे हैं। यह सीईसी बेहद महत्वपूर्ण होगी। सीईसी में वेज रिवीजन को लेकर गंभीर चर्चाएं होगी, रणनीति तय होगी।

9.6.2017 को " महान अक्टूबर क्रांति " की शताब्दी पर सेमिनार भी होगा जिसे सीटू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कॉम ए के पद्मनाभन व अन्य लीडर्स संबोधित करेंगे।

सीएमडी बीएसएनएल ने वेज रिवीजन के मुद्दे पर सेक्रेटरी डॉट और सेक्रेटरी डीपीई को सकारात्मक पत्र लिखा

श्री अनुपम श्रीवास्तव, सीएमडी बीएसएनएल ने वेज रिवीजन के मुद्दे पर सेक्रेटरी डॉट और सेक्रेटरी डीपीई को बीएसएनएल कर्मियों के लिए 1.1.2017 से वेज रिवीजन को जस्टिफाई करते हुए 15% फिटमेंट के साथ वेज रिवीजन की मांग करते हुए पत्र लिखा है। बीएसएनएल ईयू के महासचिव कॉम पी अभिमन्यु ने माननीय सीएमडी का इस हेतु आभार व्यक्त किया है। ज्ञातव्य है कि 5.6.2017 को यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स ने  सीएमडी से मीटिंग कर उन्हें 27.7.2017 को हड़ताल के निर्णय से अवगत कराया था। उसके पश्चात सीएमडी द्वारा यह पत्र लिखा गया है। जहाँ सीएमडी का यह कदम स्वागत योग्य है वहीं सीएचक्यू ने सभी परिमंडल व जिला सचिवों को आगाह करते हुए कहा है कि सीएमडी के पत्र से हम यह खुशफहमी न पाल लें कि अब वेज रिवीजन की राह आसान हो गयी है। वेज रिवीजन के लिए सतत संघर्ष करना होगा। अतः सभी जिला सचिव 27.7.2017 की एक दिवसीय हड़ताल एवं उसके पूर्व के आंदोलन की सफलता के लिए शिद्दत से तैयारी करें।

डाऊनलोड कीजिए

आंदोलन का नोटिस जारी

यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स द्वारा संयुक्त हस्ताक्षर से आगामी आंदोलन का नोटिस जारी कर दिया गया है।

डाऊनलोड कीजिए

आंदोलन के पश्चात प्रबंधन को परिमंडल सचिव का पत्र

हमारे 3 चरणों में सम्पन्न आंदोलन पश्चात प्रबंधन ने 25.5.2017 एवं 27.5.2017 की मीटिंग के मिनिट्स जारी किए हैं।

परिमंडल सचिव कॉम प्रकाश शर्मा द्वारा इसके प्रत्युत्तर में मुख्य महाप्रबंधक को पत्र लिख कर सूचित किया गया है कि दोनो मीटिंग में लिए गए निर्णय अनुसार तय समय सीमा में सभी मुद्दों पर कार्यवाही की जाए। पत्र में स्पष्ट किया गया है कि चूंकि सभी मुद्दों पर सकारात्मक निर्णय हुए हैं, यूनियन द्वारा 27.5.2017 को लिए गए निर्णय अनुसार क्रमिक भूख हड़ताल, भूख हड़ताल नही की जाएगी। किन्तु समस्याओं का निदान तत्परता से होना भी जरूरी है।

परिमंडल सचिव ने पत्र में यह भी उल्लेखित किया है कि आंदोलनों के दौरान चर्चा पश्चात समझौता होने पर किसी भी प्रकार की प्रताड़नात्मक कार्यवाही प्रबंधन द्वारा न किए जाने का भी अनडिक्लेयर्ड प्रावधान रहता है। अतः इस पहलू का भी प्रबंधन द्वारा आपसी सौहार्दपूर्ण संबंधों के मद्देनजर ध्यान रखा जाना चाहिए।

डाऊनलोड कीजिए

कॉम राकेश यादव , जे ई को मातृ शोक

सहायक परिमण्डल सचिव, कॉम राकेश यादव ( ग्वालियर ) की माताश्री का दि.5/6/2017 को निधन हो गया।

बीएसएनएल एम्प्लाईज यूनियन, मध्यप्रदेश परिमंडल की ओरसे आदरणीया मातुश्री को विनम्र श्रद्धान्जलि।

वेज रिवीजन और यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स के ट्रेड यूनियन अधिकारों की रक्षा के लिए अभूतपूर्व आंदोलन होगा...

2 जून 2017 को नई दिल्ली में सम्पन्न सभी यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स की मीटिंग में वेज रिवीजन और यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स के ट्रेड यूनियन अधिकारों की रक्षा के लिए ऐतिहासिक आंदोलन करने का निर्णय लिया गया। सर्वानुमति से तय आंदोलन की रूपरेखा एवं डिमांड्स निम्नानुसार है।

आंदोलन की रूपरेखा...

20 जून 2017     राष्ट्रव्यापी धरना

13 जुलाई 2017  भूख हड़ताल

27 जुलाई 2017  सम्पूर्ण हड़ताल

डिमांड्स...

  • 1.1.2017 से देय वेज रिवीजन और पेन्शन रिवीजन का निराकरण करो
  • डायरेक्ट रिक्रूट कर्मियों का सुपरएन्युअशन बेनिफिट का प्रकरण सेटल करो
  • बीएसएनएल में ट्रेड यूनियन एक्टिविटी पर पाबंदी के निर्देश का कॉर्पोरेट ऑफिस का दिनांक 8.5.2017 का लेटर बगैर शर्त वापस लो

मीटिंग में यह भी तय किया गया कि आवश्यक होने पर आंदोलन की तारीख में परिवर्तन किया जा सकता है। यह भी निर्णय लिया गया कि आंदोलन के नोटिस पर सभी यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स के महासचिव हस्ताक्षर करेंगे और प्रबंधन या सरकार के साथ किए जाने वाले अन्य सभी पत्राचार पर सभी यूनियन्स एवं एसोसिएशन्स की ओरसे संयोजक के रूप में बीएसएनएल ईयू के महासचिव कॉम पी अभिमन्यु के हस्ताक्षर होंगे।

चलते धरने के बीच चर्चा के लिए प्रबंधन का आमंत्रण... चर्चा पश्चात सम्मानजनक समझौता हुआ

हमारे द्वारा आंदोलन का नोटिस 17 सूत्रीय मांगपत्र के साथ 6 मई 2017 को दिया गया था। किंतु प्रबंधन ने आंदोलन के नोटिस को गंभीरता से नही लिया। 22 मई 2017 को चर्चा के लिए लिखित अनुरोध पत्र परिमंडल सचिव को ई-मेल के माध्यम से दिया गया। यदि समय रहते चर्चाओं के एक-दो दौर हो जाते तो शायद आंदोलन की स्थिति निर्मित नहीं होती। किन्तु प्रबंधन की उदासीनता की वजह से हमे आंदोलन करने के लिए बाध्य होना पड़ा।

25 मई 2017 को चर्चाओं का 12.30 बजे से शुरू हुआ सिलसिला रात 8 बजे खत्म हुआ। तीन चरणों मे सम्पन्न चर्चाओं में 2 वरिष्ठ महाप्रबंधक, महाप्रबंधक वित्त, जीएम भोपाल, अन्य अधिकारी एवं मुख्य महाप्रबंधक चर्चाओं के अलग अलग दौर में शामिल हुए। 25 मई को सम्पन्न चर्चा एवं अंतिम निर्णय से बीएसएनएल ईयू का प्रतिनिधि मंडल संतुष्ट नही हुआ और परिणाम स्वरूप 27 मई 2017 को विराट धरना हुआ। धरने के दौरान ही प्रबंधन द्वारा पुनः चर्चाओं के लिए आमंत्रि किया गया। चर्चा पश्चात प्रबंधन द्वारा लिए गए निर्णयों की लिखित प्रति हस्ताक्षर कर परिमंडल सचिव को सौंपी गई। सभी निर्णयों से धरना स्थल पर उपस्थित साथियों को अवगत करवाया गया। 4 बजे हमारा धरना जयघोष के नारों के साथ संपन्न हुआ।

25 मई और 27 मई को यूनियन व प्रबंधन के मध्य हुई वार्ता अनुसार लिखित समझौते की प्रति परिमंडल सचिव को प्रेषित की गई है। 25 मई और 27 मई के अलग अलग मिनट्स बनाए गए हैं।

हमारे द्वारा आंदोलन का नोटिस 17 सूत्रीय मांगपत्र के साथ 6 मई 2017 को दिया गया था। किंतु प्रबंधन ने आंदोलन के नोटिस को गंभीरता से नही लिया। 22 मई 2017 को चर्चा के लिए लिखित अनुरोध पत्र परिमंडल सचिव को ई-मेल के माध्यम से दिया गया। यदि समय रहते चर्चाओं के एक-दो दौर हो जाते तो शायद आंदोलन की स्थिति निर्मित नहीं होती। किन्तु प्रबंधन की उदासीनता की वजह से हमे आंदोलन करने के लिए बाध्य होना पड़ा।

25 मई 2017 को चर्चाओं का 12.30 बजे से शुरू हुआ सिलसिला रात 8 बजे खत्म हुआ। तीन चरणों मे सम्पन्न चर्चाओं में 2 वरिष्ठ महाप्रबंधक, महाप्रबंधक वित्त, जीएम भोपाल, अन्य अधिकारी एवं मुख्य महाप्रबंधक चर्चाओं के अलग अलग दौर में शामिल हुए। 25 मई को सम्पन्न चर्चा एवं अंतिम निर्णय से बीएसएनएल ईयू का प्रतिनिधि मंडल संतुष्ट नही हुआ और परिणाम स्वरूप 27 मई 2017 को विराट धरना हुआ। धरने के दौरान ही प्रबंधन द्वारा पुनः चर्चाओं के लिए आमंत्रि किया गया। चर्चा पश्चात प्रबंधन द्वारा लिए गए निर्णयों की लिखित प्रति हस्ताक्षर कर परिमंडल सचिव को सौंपी गई। सभी निर्णयों से धरना स्थल पर उपस्थित साथियों को अवगत करवाया गया। 4 बजे हमारा धरना जयघोष के नारों के साथ संपन्न हुआ।

25 मई और 27 मई को यूनियन व प्रबंधन के मध्य हुई वार्ता अनुसार लिखित समझौते की प्रति परिमंडल सचिव को प्रेषित की गई है। 25 मई और 27 मई के अलग अलग मिनट्स बनाए गए हैं।

डाऊनलोड कीजिए... 1 2 3

प्रबंधन का स्तर इस स्तर पर आ जायेगा, हमने सोचा नहीं था...

बीएसएनएल एम्प्लाईज यूनियन के अडिग और अटल इरादों से बौखलाए प्रबंधन ने हथकंडे अपना कर हमें उत्तेजित करने का असफल प्रयास किया। भोपाल में दूरस्थ एसएसए से आए हमारे साथियों के लिए हमने सीजीएम ऑफिस परिसर के लगभग बाहरी कोने में खाना बनाने का प्रबंध किया था। किन्तु समस्याओं का निदान करने में असफल प्रबंधन ने यकायक स्फूर्ति प्रदर्शित करते हुए खाना परिसर में नहीं बनाने का तुगलकी फरमान जारी किया। इस पर सर्कल सेक्रेटरी कॉम प्रकाश शर्मा ने आपत्ति दर्ज कराते हुए इसका कारण जानना चाहा। जवाब मिला... " आग लगने का भय है " । कॉम शर्मा ने इसके प्रत्युत्तर में बीएसएनएल की प्रॉपर्टी की इतनी चिंता करने के लिए  धन्यवाद दिया और साथ ही भविष्य में सीजीएम ऑफिस परिसर में खाना न बनाने की चेतावनी भी दी । और यदि भविष्य में ऐसा हुआ तो प्रतिकार स्वरुप बीएसएनएल ईयू द्वारा प्रदर्शन किया जायेगा। भई, हमारी प्रॉपर्टी की सुरक्षा की हमारी भी तो जिम्मेदारी है।

साथ ही , परिमंडल सचिव ने प्रबंधन को चेताया भी कि ऐसी हरकतों से प्रबंधन हमारे शांतिपूर्ण धरने के दौरान उत्तेजित न करें, अन्यथा शांति भंग होने की स्थिति में संपूर्ण जिम्मेदारी प्रबंधन की होगी।

प्रबंधन ने तैनात किए फोटोग्राफर और वीडियोग्राफर...

परिमंडल प्रबंधन ने धरना स्थल पर पल पल की गतिविधि की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी करवाई। अभी तक के ट्रेड यूनियन इतिहास में हमने पहली बार देखा कि मंच और पण्डाल में हो रही प्रत्येक गतिविधि को कैमरे में सूक्ष्मता से कैद किया गया, शूटिंग की गयी। वक्ताओं के संपूर्ण उद्बोधन की भी रिकॉर्डिंग की गयी। सामने कैमरे को देख कर हमारे साथियों ने अतिरिक्त उत्साह के साथ नारे लगाए। बताया तो यह भी गया था कि पुलिस बल भी बुलवायेंगे, हमने कहा बेशक।

काश , इतनी सतर्कता के साथ यदि समस्याओं के निदान में समय रहते प्रबंधन प्रयास कर लेता तो शायद यह सब करने की नौबत ही नहीं आती।

गगनभेदी नारों से गूंज उठा सीजीएम ऑफिस का परिसर और समीपस्थ परिवेश...

सूरज की कहर ढाने वाली किरणों की तपीश के बीच वरिष्ठ कॉम एस सी श्रीवास्तव के उद्बोधन से धरना विधिवत रूप से घोषित समय पर शुरू हुआ। हमारे जिला सचिवों के नेतृत्व में अलग अलग जत्थों में रैली के साथ जोशीले नारे लगाते हुए असंख्य आक्रोशित साथी धरना स्थल पर पहुँच रहे थे। स्थानाभाव की वजह से हमें टेंट जरूर छोटा लगाना पड़ा था, जगह छोटी महसूस हो रही थी किन्तु हमारे साथियों का जोश और आक्रोश कुछ ज्यादा ही बड़ा था, बेहद विशाल और विराट। ऐसे में गर्मी से बेपरवाह हमारे युवा साथियों ने नारे लगाने शुरू किए और देखते ही देखते गगनभेदी नारों की गूंज से सीजीएम ऑफिस का परिसर और समीपस्थ परिवेश गूंज उठा।

निःसंदेह हमारे साथियों के नारों की गूंज की गूंज परिमंडल प्रबंधन को एक लंबे समय तक स्मृति में रहेगी।

बीएसएनएल ईयू के तीखे तेवर के समक्ष नतमस्तक हुए सूरज के तेवर...

27 मई 2017 को बीएसएनएल एम्प्लाईज यूनियन के आव्हान पर परिमंडल प्रबंधन की हठधर्मिता के खिलाफ 19 मई 2017 से किए जा रहे आंदोलन के तृतीय चरण में "सीजीएम ऑफिस पर हल्ला बोल " कार्यक्रम के तहत विशाल धरना आयोजित किया गया।  28 मई के अख़बारों ने बताया कि 27 मई को दमोह एवं श्योपुरकलां ( मुरैना )में पारा 47 डिग्री को छू चूका था। प्रदेश के नौ जिलों में टेम्परेचर 45 डिग्री से अधिक रहा और नौतपे के तीसरे दिन यानि 27 मई को भोपाल का तापमान भी कम नहीं था, पारा वहां भी 45.1 डिग्री को स्पर्श कर रहा था। लेकिन सूरज के तीखे तेवर हमारे जांबाज़ साथियों के हौसलों को पस्त नहीं कर सके। भीषण गर्मी के बावजूद धरने में शामिल होने के लिए लगभग 500+ कर्मचारी प्रदेश के कोने कोने से भोपाल पहुंचे।

हमारी टीम का आभार।

माननीय संचार राज्य मंत्री श्री मनोज सिन्हाजी से वेज रिवीजन के मुद्दे पर चर्चा हेतु पत्र

वेज रिवीजन के मुद्दे पर चर्चा करने हेतु हमारे महासचिव कॉम पी अभिमन्यु ने माननीय संचार राज्य मंत्री श्री मनोज सिन्हाजी को पत्र प्रेषित कर मुलाकात का वक्त देने का अनुरोध किया है। पत्र में स्पष्ट किया गया है कि " थर्ड पीआरसी " में उल्लेखित अफोरडीबिलिटी क्लॉज की वजह से बीएसएनएल कर्मियों का वेज रिवीजन संभव नही है। माननीय मंत्रीजी का सकारात्मक हस्तक्षेप ही कर्मचारियों को न्याय दिला सकता है।

वेज रिवीजन को ले कर हमारे सीएचक्यू की चिंता प्रशंसनीय है। आभार ।

डाऊनलोड कीजिए